Pneumonia: निमोनिया क्या होता है? निमोनिया के कारण, लक्षण एवं बचने के उपाय l

Admin 9:07 pm

निमोनिया क्या होता है? (What is Pneumonia in Hindi)


Pneumonia (निमोनिया) एक संक्रमण है जो कि बैक्टीरिया, वायरस और कवक से फैलता है l जिसमें फेफड़ों में हवा रहने के लिए बनी छोटी थैलीनुमा संरचनाओं में सूजन के साथ तरल पदार्थ या पीप इकठ्ठा हो जाता है, जिससे बलगम युक्त खाँसी, बुखार, ठिठुरन और साँस लेने में कठिनाई होने लगती है l

निमोनिया बीमारी आमतौर पर सर्दियों, बसंत और मानसून के समय होती है, और अक्सर सर्दी-जुकाम होने के बाद शुरू होती है l 

निमोनिया एक गंभीर बीमारी है जो किसी भी आयु वर्ग के लोगों को अपने चपेट में ले सकती है लेकिन बड़ों की तुलना में बच्चों में यह समस्या ज्यादा पायी जाती है क्योंकि उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता युवाओं की तुलना में कम होती है l 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा किये गए रिसर्च से पता चला है कि भारत में हर घंटे निमोनिया से 45 बच्चों की मौत होती है l यानि करीब हर मिनट हमारे देश में एक बच्चा निमोनिया की भेंट चढ़ जाता है l इसलिए समय रहते निमोनिया का इलाज बहुत जरुरी है l

निमोनिया के कारण (Causes of Pneumonia)


निमोनिया (Pneumonia) बैक्टीरिया, वायरस और फंगस की वजह से होते हैं, इसके अतिरिक्त कुछ रसायनों और फेफड़ों में लगी चोट के कारण भी निमोनिया होता है l 

बैक्टीरिया से संबंधित निमोनिया का प्रमुख कारण Streptococcus pneumoniae नाम का एक बैक्टीरिया होता है l इसके अतिरिक्त Mycoplasma pneumoniae, Haemophilus influenzae, Chlamydophila pneumoniae, Staphylococcus aureus आदि के कारण भी निमोनिया होता है l 

फ्लू वायरस की वजह से भी निमोनिया हो सकता है l इसके आलावा अन्य वायरस जैसे- Rhinovirus, Coronavirus, Influenza virus, RSV virus (Respiratory syncytial virus), Adenoviruses और parainfluenza भी शामिल हैं l 

बैक्टीरिया से होनेवाला निमोनिया 2-4 सप्ताह में ठीक हो सकता है, जबकि वायरस से होने वाले निमोनिया को ठीक होने में अधिक समय लग सकता है l 

वृद्ध व्यक्तियों या अन्य रोगों से ग्रस्त लोगों में निमोनिया ठीक होने में 6 से 8 सप्ताह या इससे भी अधिक समय लग सकते हैं l

निमोनिया क्या होता है?


निमोनिया का लक्षण (Symptoms of Pneumonia)


निमोनिया के अधिकतर रोगियों में शुरुआत सर्दी और फ्लू के लक्षणों से होती है और बाद में तेज बुखार, ठिठुरन और बलगम के साथ खाँसी, नाक से पानी आना आदि हो जाते हैं l अन्य लक्षण निम्न प्रकार होते हैं -

  • फेफड़ों से निकला भूरा या हरा बलगम जो खाँसी से बाहर निकलता है l 
  • तेज गति से साँस चलना और साँस लेने में कठिनाई l 
  • दस्त, सिरदर्द, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द l 
  • थकावट और अत्यंत कमजोरी लगना l 
  • असमंजस और प्रलाप की स्थिति l 
  • मतली और उल्टी l 
  • छाती में दर्द जो गहरी साँस लेने पर बढ़ जाये (प्लुरिटिक पेन) l
  • तेज ह्रदय गति और रात में पसीना आना l

सिर्फ लक्षणों के आधार पर ही नहीं कहा जा सकता है कि किसी को निमोनिया है l रोग का निर्धारण रोगी के चिकित्सीय इतिहास और लक्षणों का शारीरिक परिक्षण, जिसमें स्टेथेस्कोप की सहायता से साँस को सुना जाता है और  इसके अतिरिक्त छाती का एक्स-रे और सीटी-स्कैन, रक्त परीक्षण, बलगम की जाँच, ब्रोंकोस्कोपी आदि के आधार पर तय किया जाता है l


निमोनिया से बचने के उपाय और परहेज


यह बीमारी किसी भी आयुवर्ग के लोगों को चपेट में ले सकती है लेकिन कुछ सावधानियों और परहेज से निमोनिया से बचा जा सकता है l निमोनिया से बचने के लिए निम्न उपाय किये जाने चाहिए - 

  • बच्चों में निमोनिया होने की संभावनाओं को कम करने के लिए सबसे जरुरी है कि उसका सम्पूर्ण टीकाकरण न्यूमोकोकल और मेनिंगोकोकल टीके, HIV, डिप्थेरिया और काली खाँसी के टीके, निमोनिया पैदा करने वाली सभी बीमारियों से बचाव के लिए बहुत जरुरी है l 
  • खाँसते हुए अपने मुँह और नाक को ढक लें जिससे कि इसके बैक्टीरिया और वायरस न फैले l 
  • शुद्ध छना हुआ पानी ही पीने में उपयोग में लाये l गर्म पानी हो तो और भी बेहतर है l 
  • लहसुन, अदरक, काली मिर्च, प्याज फेफड़ों और श्वसन तंत्र के लिए अत्यंत लाभकारी होते है इसलिए नियमित तौर पर लिए जाने चाहिए l 
  • दूध और डेयरी उत्पाद से दूर रहे, क्योंकि ये शरीर में म्यूकस बढ़ाने में सबसे अधिक योगदान करते हैं l 
  • ठंढी चीजों से दूर रहे और ऐसे पदार्थों से भी दूर रहे जिनमें कृत्रिम पदार्थ जैसे कि परिरक्षक, रंग, स्वाद और यौगिक डाले गए हों l 
  • अपनी छाती के मुकाबले सर को नीचे करते हुए लेटें l यह फेफड़ों से बलगम निकालने में सहायक होता है l 
  • गर्म, नम हवा में साँस लेना चिपचिपे बलगम को निकालने में उपयोगी होता है, इसके लिए Humidifier में गर्म पानी भरें और इसके गर्म धुएँ में साँस लें l आप आसानी से ऑनलाइन अमेज़न से Humidifier खरीद सकते हैं l Best Humidifier at the Cheapest Rate Buy Online Here.
Amazon
  • धूम्रपान त्यागें क्योंकि यह फेफड़ों को क्षति करता है जिससे संक्रमण की स्थिति और बिगड़ सकती है l 
  • व्यायाम और योग निमोनिया के उपचार में काफी कारगर है l इसके लिए अर्धचक्रासन और धनुषासन प्रमुख योग आसन हैं l 


Final Words


इस लेख में आपने जाना कि निमोनिया (Pneumonia) क्या होता है? निमोनिया (nimoniya) के कारण और लक्षण क्या है और निमोनिया (nemonia) से बचने के उपाय क्या है?

बदलते मौसम अपने साथ कई तरह की बीमारियाँ लाती है, निमोनिया भी उनमें से एक है l यह एक गंभीर बीमारी हैं l वैसे तो यह बीमारी किसी को भी हो सकता है लेकिन बच्चे और वृद्ध सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं l इसलिए  बच्चों और वृद्धों का विशेष ख्याल रखना चाहिए l 

अभी Covid-19 की वजह से पूरी दुनियाँ त्रस्त है l कोरोनावायरस की वजह से भी निमोनिया हो सकता है l इसलिए सावधानियाँ और परहेज आपको निमोनिया से बचा सकता है l

Pneumonia पर यह जानकारी अपने अन्य दोस्तों के साथ भी शेयर करे l

Share This Article

Add Comments

Your comment is valuable. Please do not spam.
EmoticonEmoticon