NIOS 507 ASSIGNMENT ANSWERS- ASSIGNMENT- 2 QUESTION- 1

Chandan 5:14 pm
NIOS 507 ASSIGNMENT ANSWERS - ASSIGNMENT - 2 QUESTION - 1, DELED ASSIGNMENT 507 HINDI, NIOS 507 ASSIGNMENT IN HINDI, 507 KA ASSIGNMENT ANSWER , 507 ASSIGNMENT IN HINDI PDF.

NIOS 507 ASSIGNMENT ANSWERS- ASSIGNMENT- 2 QUESTION- 1 - What is leadership? Why is it important for a teacher? What are the leadership styles? What type of leadership will you adopt for proper development of your learners? Why?

प्रश्न - 1. नेतृत्व क्या है ? एक शिक्षक के लिए यह महत्वपूर्ण क्यों है ? नेतृत्व की शैलियाँ कौन सी हैं ? अपने शिक्षार्थियों के उपयुक्त विकास हेतु आप कौन सी नेतृत्व शैली अपनाएंगे और क्यों ?


507 ASSIGNMENT-2 QUESTION- 1
उत्तर - नेतृत्व की परिभाषा कई विशेषज्ञों ने अलग-अलग दिया है , जैसे –
वारेन बेन्निस (1975) के अनुसार, “नेतृत्व स्वयं को जानने का एक कार्य है जिसमें एक दृष्टि हैं जो अच्छी तरह संप्रेषित, सहयोगियों में विश्वास बनाने वाली तथा प्रभावी एक्शन लेने में आपके नेतृत्व क्षमता को स्वीकार करता है l
एलन कीथ कहते हैं कि , “नेतृत्व अंततः लोगों के लिए कुछ विलक्षण होने में योगदान करने का एक तरीका सृजित करने के बारे में है l”

समकालीन व्यवस्था (2003) में, नेतृत्व, “नेताओं और समन्वयकारियों के बीच आपसी प्रभाव एवं सामान्य उद्देश्य पर आधारित एक गतिशील संबंध के रूप में जिसमें दोनों उच्च स्तरों के प्रेरणा एवं नैतिक विकास की ओर जाते हैं जैसे वे अभीष्ट परिवर्तन को वास्तव में प्रभावित करते हैं l” इस परिभाषा से चार महत्वपूर्ण पहलू निकलते हैं – जैसे संबंध, आपसी प्रभाव, सामान्य उद्देश्य एवं समन्वयकारियों l

केन ओग्बोन्निया (2011) के अनुसार, “प्रभावी नेतृत्व संगठनात्मक या सामाजिक लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए आतंरिक एवं बाह्य वातावरण के अंतर्गत उपलब्ध संसाधनों को सफलतापूर्वक एकीकृत करने और उच्चतम सीमा तक बढ़ाने की योग्यता है l” यह परिभाषा तीन महत्वपूर्ण अंगों से जुडी है – सफलतापूर्वक एकीकृत करने तथा उपलब्ध संसाधनों को उच्चतम सीमा तक बढ़ाना, पर्यावरण एवं संगठनात्मक या सामाजिक लक्ष्यों l
नेता सामान्यतः प्रकृति से उत्पादी होते हैं l और एक उत्पादी नेता इसे देखता है कि लोग अपने कार्यों को कौशल के साथ करें तथा धन, समय एवं संसाधनों के न्यूनतम सम्भाव्य खर्च पर सर्वोत्तम प्राप्य परिणामों को उत्पादित करने के जरुरी वचनबद्धता को दिखाएँ l सर्वाधिक सफल नेता लोगों का अंदाजा लगाने, दो तरफा संवाद स्थापित करने, वातावरण सृजित करने में जो अत्यधिक उत्पादकता को प्रेरित करें तथा समुदाय एवं परिस्थितियों में अपने स्वयं के व्यवहार का अनुकूलन करने में प्रवीण होते हैं l
नेतृत्व एक शिक्षक के लिए इसलिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि एक शिक्षक नेता, विद्यालय का वातावरण जो विद्यालय एवं समुदाय के बीच अन्तः पृष्ठ के वातावरण में संचालित करता है के नेतृत्व एवं प्रबंधन शैली से प्रत्यक्षतः जुड़ा है l एक स्वस्थ विद्यालय-समुदाय संबंध शिक्षक नेता द्वारा उनके लिए स्थापित मूल्यों, योगदानों, कौशलों, क्रियाओं एवं प्राथमिकताओं पर निर्भर करता है l शिक्षक नेता के व्यवहार एवं मनोवृतियाँ सबसे महत्वपूर्ण कारक हैं जो विद्यालय-समुदाय संबंधों को प्रभावित करते हैं l

नेतृत्व की शैलियाँ :- सामान्यतया नेतृत्व शैलियाँ नेता के व्यवहार को प्रदर्शित करता है l मुख्यतः चार प्रकार की नेतृत्व शैलियाँ हैं – 

1. निरंकुश नेतृत्व :- निरंकुश नेतृत्व शैली का अर्थ है निर्णय-निर्माण की सभी शक्तियाँ नेता में केन्द्रित है जैसे तानाशाहों में होती है l नेता अधीनस्थों के सुझावों या पहलों को नहीं मानता है l यहाँ नेतृत्व प्रायः एक एकल निष्पादन है l वह अपने निर्णय स्वयं करता है l जितना कम से कम स्वतंत्र उत्तरदायित्व संभव है प्रदान करता है l सम्प्रेषण प्रायः एकतरफा होता है l इस प्रकार के नेतृत्व का कर्मचारियों या अधीनस्थों के विकास पर एक विकृत करने वाला प्रभाव होता है l निरंकुश नेतृत्व जानता है कि वह एक दृढ़ अनुशासक है और मानता है कि प्रशंसा और आदर विद्यार्थियों को नष्ट कर देंगे l
2. अहस्तक्षेप वाला नेतृत्व :- अहस्तक्षेप वाला नेता कर्मचारियों को उनके निर्णय करने की अनुमति देता है l नेता प्रायः अपने को कागजी कार्यों में व्यस्त रखता है ताकि वह समूह के सदस्यों से दूर रहे l नेता अपने कार्य का बड़ा भाग विद्यार्थियों एवं कर्मचारियों को विद्यालय में अशांति पैदा करने से दूर रखने में मानता है l यह नेतृत्व लोगों के बारे में निराशावादी है l इस प्रकार का नेतृत्व जहाँ तक संभव है निर्णयों को स्थगित रखता है l शिक्षक नेता जोखिम उठाने को नापसंद करता है l
3. सुस्त नेतृत्व :- सुस्त नेतृत्व का अर्थ है यह खुला एवं असंरचित है l इसका प्रविधियों, नियमों, कानूनों के लिए बहुत थोड़ा उपयोग है l इससे जुड़ा दर्शन यह है कि विद्यालय और समुदाय से संबद्ध कार्य बिना एक संरचना के हो जायेंगे, यदि सदस्य शिथिल, खुश और अपने कार्य से संतुष्ट हैं l सुस्त नेतृत्व प्रत्यक्षतः व्यक्ति-दर-व्यक्ति संपर्क करने में अधिक उर्जा लगा देता है l यह उन चीजों के बारे में बात करने में अधिक समय लगा देता है जिसका कार्य से कुछ मतलब नहीं है l वे उत्पादी एवं अनुत्पादी व्यवहार के बीच में भेद करने में असफल हो जाते हैं l
  
4. प्रजातान्त्रिक नेतृत्व :- यह नेतृत्व अपने कर्मचारियों और अधीनस्थों को अधिक महत्त्व देता है l वे उनकी क्षमता को पहचानते हैं तथा उनकी क्षमता का पूर्ण इस्तेमाल करने के लिए उन्हें पूर्ण स्वतंत्रता देते हैं l ऐसा करके वे उनके अपेक्षित ज्ञान, कौशलों और प्रेरणा को विकसित करने में सहायता करता है l वे अपने अधीनस्थों के विचारों का स्वागत करता है तथा उनकी प्रतिभा का इस्तेमाल सपने को सम्पूर्ण करने के लिए करता है l इस प्रकार का शिक्षक नेतृत्व मानता है कि विद्यार्थी, शिक्षक सहयोगी और समुदाय के सदस्य समुदाय में सभी तक प्रारंभिक शिक्षा को पहुँचाने में उनके प्रयासों में सार्थक सहयोगी है l

नेतृत्व के उपरोक्त शैलियों से पता चलता है कि नेतृत्व का सबसे बेहतरीन शैली प्रजातान्त्रिक नेतृत्व ही है l और मैं अपने शिक्षार्थियों के उपयुक्त विकास हेतु प्रजातान्त्रिक नेतृत्व को ही अपनाऊंगा l क्योंकि, प्रजातान्त्रिक नेतृत्व शैली ही एकमात्र शैली है जो हमारे शिक्षार्थियों को चहुमुंखी विकास का अवसर प्रदान करेगा l शिक्षार्थी अपना निर्णय ले सकेंगे, अपने विचार साझा कर सकेंगे, बिना डरे नए प्रयोग कर सकेंगे, आपस में एक दूसरे को सहयोग कर सकेंगे, समुदाय से घुलमिल कर पारस्परिक रूप से लाभ प्राप्त कर सकेंगे l हालाँकि मैं इन्हें सलाह देता रहूँगा और उनके अनुभव एवं अंतर्दृष्टि की ओर उनका ध्यान आकृष्ट करता रहूँगा l 

Share This Article

Add Comments


EmoticonEmoticon