DELED ASSIGNMENT CODE 509 ANSWER IN HINDI - ASSIGNMENT- 1 QUESTION- 2

Chandan 9:43 pm

DELED ASSIGNMENT CODE 509 ANSWER IN HINDI - ASSIGNMENT- 1 QUESTION- 2 का यूनिक उत्तर आपको इस 509 असाइनमेंट के अंतर्गत अब उपलब्ध है l

DELED ASSIGNMENT 509 ANSWER IN HINDI - ASSIGNMENT- 1 QUESTION- 2

अगर आप CODE 509 का ASSIGNMENT 1 का पहला प्रश्न का उत्तर लिखना चाहते हैं तो वह भी इस साईट पर दिया गया है आप उसे देख लें l अब आप यहाँ से असाइनमेंट 1 का दूसरा प्रश्न का उत्तर देखें l
यदि आप PDF DOWNLOAD करना चाहते हैं तो यहाँ से करें - 

ANSWER OF 509 ASSIGNMENT 1 QUESTION 2

प्रश्न - 2 उच्च प्राथमिक विद्यालयी पाठ्यचर्या में सामाजिक विज्ञान पाठ्यक्रम की स्थिति का वर्णन कीजिए, सामाजिक-विज्ञान के अंतर्गत आने वाले विषयों की सूचि कीजिए l 
Describe the position of Social Sciences curriculum in upper primary school curriculum. List the subjects considered under Social Science. 
DELED ASSIGNMENT 509 ANSWER IN HINDI
उत्तर- आज संसार के अधिकतर देशों में सामाजिक विज्ञान को विद्यालयी पाठ्यक्रम के भाग के रूप में पाया जाता है l भारत के वर्त्तमान विद्यालयी पाठ्यक्रम में सामाजिक विज्ञान को निम्न प्राथमिक स्तर एवं उच्च विद्यालयी स्तर पर विद्यार्थियों को सामाजिक विज्ञान पाठ्यक्रम के एक विशेष संगठित प्रशिक्षण संबंधी क्षेत्र के रूप में पढ़ाया जाता है और पाठ्यक्रम का यह क्षेत्र सामाजिक विज्ञान या सामाजिक अध्ययन कहलाता है l
उच्च प्राथमिक स्तर ‘और,’ ‘या’ माध्यमिक स्तर पर, पुकारा जाने वाला शब्द सामाजिक विज्ञान और सामाजिक अध्ययन विनियमता के अनुसार एक बड़े परिणाम के साथ उपयोग किया जाता है l उदहारण के लिए – (HCF 2005, P-53) ने उच्च प्राथमिक स्तर पर ‘सामाजिक अध्ययन’ शब्द को पाठ्यक्रम के सन्दर्भ में उपयोग किया है l वहीँ National Position Paper- Nation focus group on teaching social sciences (2006, P-5) ने उच्च प्राथमिक अवस्था में ‘सामाजिक विज्ञान’ शब्द को पाठ्यक्रम के सन्दर्भ में उपयोग किया है l इतिहास, भूगोल एवं सामाजिक राजनीतिक जीवन पाठ्यपुस्तक में, सीबीएसई पाठ्यक्रम के उच्च प्राथमिक स्तर पर, “सामाजिक विज्ञान” शब्द का उपयोग किया गया है l शब्द सामाजिक अध्ययन या सामाजिक विज्ञान कोई भी उपयोग किया जाये, सामाजिक विज्ञान के शिक्षण अधिगम का केंद्र, शिक्षा के स्तर के अनुसार परिवर्तन से है l विद्यालय स्तर पर सामाजिक अध्ययन / सामाजिक विज्ञान का अधिगम ऐसे मुद्दों पर केन्द्रित होता है जो उच्च शिक्षा स्तर पर सामाजिक विज्ञान के अधिगम के बिन्दुओं से क्रियात्मक रूप से अलग है l उच्च प्राथमिक स्तर सामाजिक विज्ञान अधिगम के सामान्य उद्देश्य निम्नलिखित हैं –

1. विद्यार्थियों को उनके भौगोलिक, सामाजिक राजनीतिक वातावरण से परिचित कराना l 
2. विद्यार्थियों में सामाजिक तुलनात्मक एवं सामाजिक जिम्मेदारी के ज्ञान का विकास करना l 
3. विद्यार्थियों के बीच प्रजातान्त्रिक नागरिकता के गुणों को विकसित करना l 
4. विद्यार्थियों के बीच देशभक्ति की भावना, राष्ट्रीय भावना एवं अन्तराष्ट्रीय समझ विकसित करना l 
5. विद्यार्थियों की सामाजिक-आर्थिक संस्थाओं में सहयोग करने में सहायता करना l 
6. विद्यार्थियों को वर्तमान एवं भविष्य में आने वाले सामाजिक मुद्दों एवं चुनौतियों को हल करने के लिए प्रशिक्षित करना l 
7. विद्यार्थियों का नैतिक मूल्य, संवेगात्मक गुण एवं संबंधों की समझ की जानकारी को विकसित करना l
उच्च प्राथमिक स्तर पर सामाजिक विज्ञान शिक्षण पर, “सामाजिक विज्ञान शिक्षण (2006) पर राष्ट्रीय अभिकेंद्रित समूह” की टिप्पणी के अनुसार, उच्च प्राथमिक स्तर पर सामाजिक विज्ञान शिक्षण के उद्देश्य निम्नलिखित हैं –
मानव जाति और जीवन के अन्य रूपों के निवास के रूप में पृथ्वी के बारे में समझ विकसित करना l 
भूमंडलीय संदर्भो में विद्यार्थी के अपने क्षेत्र, राज्य एवं देश के अध्ययन प्रति जागरूक करना l 
देश की सामाजिक एवं राजनीतिक संस्थानों की क्रियात्मक एवं गत्यात्मकता और प्रक्रिया से विद्यार्थी को परिचित कराना l 
विश्व के अन्य भागों में समकालीन विकास के सन्दर्भ में भारत के इतिहास के अध्ययन का सूत्रपात करना l
इस अवस्था पर, सामाजिक विज्ञान के विषय क्षेत्र, जहाँ से उनकी पाठ्यवस्तु को बनाया जाता है वे हैं इतिहास, भूगोल, राजनीतिक विज्ञान एवं अर्थशास्त्र आदि से परिचय कराया जायेगा l

सामाजिक विज्ञान के अंतर्गत आने वाले विषयों की सूचि :-
सामाजिक विज्ञान परिवार में बहुत सारे विषयों को शामिल किया जाता है l कुछ सामाजिक विज्ञान विषय जैसे – राजनीतिक विज्ञान, अर्थशास्त्र, दर्शन शास्त्र आदि बहुत पुराने हैं l जबकि कुछ सामाजिक विज्ञान विषय जैसे – मानवाधिकार, लोक प्रशासन, सामाजिक कार्य आदि विकास के प्रारंभिक स्तर पर है l सामाजिक विज्ञान विषयों को निम्नांकित तीन शाखाओं / शीर्षों में वर्गीकृत किया जा सकता है –
1. विशुद्ध सामाजिक विज्ञान – राजनीतिक विज्ञान, अर्थशास्त्र, इतिहास, न्याय शास्त्र, विधि, समाज शास्त्र, लोक प्रशासन, मानवाधिकार और मानव शास्त्र आदि l 
2. अर्ध सामाजिक विज्ञान – नैतिक शिक्षा, दर्शन, मनोविज्ञान, कला आदि l 
3. सामाजिक निहितार्थ से संबंधित विज्ञान – भूगोल, जीव विज्ञान, मेडिसिन, पुस्तकालय विज्ञान आदि l
सामाजिक विज्ञान विषयों की प्रकृति अंतर्विषयक है l सामाजिक विज्ञान के अंतर्गत एक विषय का संबंध सामाजिक विज्ञान के अन्य विषयों से तथा अन्य क्षेत्रों के विषयों जैसे – भौतिक शास्त्र, भाषा अध्ययन, जीव विज्ञान आदि के साथ संबंध रखता है l चूँकि अध्ययन के सभी क्षेत्र ज्ञान की शाखाएं हैं तथा ज्ञान प्राथमिक रूप से इकाई संबंधी अवधारणा / घटना है, इसलिए सामाजिक विज्ञान क्षेत्र या सामाजिक विज्ञान क्षेत्र के विषय कई विशेषताएँ रखता है जो अन्य क्षेत्रों और / या अन्य क्षेत्रों के विषयों में उभयनिष्ठ है l
अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगे तो इसे अन्य दोस्तों के साथ भी शेयर करें l आप अपने विचार नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें l धन्यवाद l
यदि आप PDF DOWNLOAD करना चाहते हैं तो यहाँ से करें - 

Share This Article

Add Comments


EmoticonEmoticon