धैर्य - Short Story in Hindi - Dhairya

Admin 9:46 pm
एक गाँव में एक किसान रहता था जिसका नाम धर्मी था l गाँव में किसानी के लिए सिंचाई की घोर कमी थी l अतः वह किसान अपना एक कुआँ खोदना चाहता था l सही जगह देखकर उसने कुआँ खोदना शुरू किया l दस -बारह हाथ जमीन खोदकर भी जब पानी नहीं दिखाई दिया तो वह निराश हो गया l सोचा यहाँ के जमीन में पानी ही नहीं है l जगह बदल कर दूसरे जगह गड्ढा खोदने लगा l वहां भी दस-बारह हाथ खोदने के बाद पानी दिखाई नहीं दिया तो तीसरे जगह खोदने लगा l इस तरह आठ -दस जगह खोदने के बाद भी पानी का कहीं अता-पता न पाकर वह काफी निराश हो गया और थक - हारकर घर लौट गया l

अगले दिन उसने सारी बात एक बड़े बुजुर्ग को बताई तो बुजुर्ग ने पहले हँसा फिर उसे समझाते हुए कहा - तुमने दस जगह दस-दस हाथ गड्ढा खोदकर एक सौ हाथ गड्ढा खोद डाला l यदि तुम अलग-अलग न खोदकर एक ही स्थान पर गड्ढा खोदते रहते तो इतना खोदना भी नहीं पड़ता और तुम्हें पानी भी अवश्य ही मिल जाता l वास्तव में तुमने धैर्य से काम नहीं लिया l थोड़ा-थोड़ा खोदकर अपना निर्णय बदल लिया l मेरी मानो , आज तुम एकाग्रता और धैर्य से एक ही स्थान पर गड्ढा खोदो और जब तक पानी न मिले तब तक खोदना जारी रखो l

उस बुजुर्ग की बात मानकर धर्मी ने आज पुनः गड्ढा खोदना शुरू किया l और , पचीस हाथ खोदने के बाद ही उसे पानी मिल गया l

इसलिए , मनुष्य कोई भी काम यदि धैर्य और एकाग्रता से करे तो उसे सफलता अवश्य ही मिलती है l

अनमोल वचन - "कार्य कितना बड़ा हो , मनुष्य उसे करना चाहता हो तो सिंह की तरह दृढ निश्चय के साथ आरम्भ करे और पूरा करके छोड़े l"

Share This Article

Add Comments

Your comment is valuable. Please do not spam.
EmoticonEmoticon