Karm Ka Fal - A Motivational Short Story in Hindi - कर्म का फल

Admin 8:11 pm
एक युवक घोड़े पर सवार होकर जंगल के रास्ते शहर जा रहा था l रास्ते में उसे एक घायल नेवला मिला l युवक को उस छोटे जीव पर दया आ गयी l वह घोड़े से निचे उतरा और उस घायल नेवले को उठाकर पेड़ की छाँव में ले गया l अपने पास में रखे पानी को अपने हाथों से नेवले के मुंह में पिलाया l कुछ देर में नेवले को होश आ गया l युवक ने उसे छोड़ दिया और वह नेवला धीरे से झाड़ी में चला गया l वह युवक फिर घोड़े पर सवार होकर चला गया l उसने इसे एक सामान्य घटना समझ कर भूला दिया l

कुछ दिनों बाद वही युवक घोड़े पर सवार होकर उसी जंगल के रास्ते से लौट रहा था l रास्ते में एक सर्प पड़ा था l अचानक घोड़े का पैर सर्प से लग गया l इससे सर्प क्रोधित होकर बदला लेने के लिए घोड़े के पीछे तेजी से चलने लगा l वह उस घोड़े और उस पर सवार युवक को डसना चाहता था l युवक इन बातों से अनजान चला जा रहा था l सर्प और घोड़े के बीच का फासला निरंतर कम होता जा रहा था l तभी झाड़ियों से एक नेवला निकला l उसने सर्प पर हमला कर उसे मुँह में दबोच लिया l दोनों में लड़ाई शुरू हो गयी l थोड़ी ही  देर में सर्प के टुकड़े - टुकड़े हो गए l इस हलचल से युवक ने पीछे मुड़कर देखा तो एक लम्बे साँप को मरा देखकर राहत की साँस ली l उसने उस नेवले को झाड़ियों में जाते देखा l तब उसको पुरानी बात याद आ गयी कि उसने एक घायल नेवले को पानी पिलाकर उसकी जान बचायी थी l आज इसने मेरी जान बचायी है l

यह युवक के अच्छे कर्म का ही फल था कि उसके जीवन की रक्षा हो पाई l

गीतोपदेश :- "निष्काम भावपूर्ण केवल दूसरों के हित के लिए अपने कर्तव्य का तत्परता से पालन करने मात्र से कल्याण हो जाता है l"

Share This Article

Add Comments

Your comment is valuable. Please do not spam.
EmoticonEmoticon