Motivational Short Story in Hindi - लकड़ी के कटोरे

Chandan 10:07 pm
एक कमजोर बूढ़ा आदमी अपने बेटा , बहू और चार साल का पोता के साथ रहता था l उसकी आँखें धुँधली थी , उसके हाथ काँप रहे थे और चाल लड़खड़ा रहे थे l

हर रात यह परिवार खाने की मेज पर एक साथ रात का भोजन करता था l लेकिन , बूढ़े बाप की अस्थिर हाथ और कमजोर दृष्टि खाने में मुश्किल पैदा करता था l मटर उसकी चम्मच से लुढ़ककर फर्श पर गिर जाता l जब वह दूध का गिलास पकड़ता , यह अक्सर एक अनाड़ी की तरह टेबल-क्लॉथ पर गिरा दिया जाता l

प्रायः हर रात की इन घटनाओं से उसका बेटा और बहू बुरी तरह चिढ़ने लगे l

"हमें पिताजी के बारे में कुछ करना चाहिए ," - बेटा ने कहा l

"मैं तंग आ चुकी हूँ , इनके रोज दूध गिराने , शोर-शराबे के साथ खाने और फर्श पर भोजन गिराने से ," -पत्नी ने सहमति जताई l

विचारोपरांत दम्पति ने उनके लिए एक कोने में टेबल लगा दिए l

वहाँ , वह अकेले भोजन करने लगे जबकि बांकी का परिवार डिनर टेबल पर अपना भोजन करने लगा l चूँकि बूढ़े बाप ने एक दो बर्तन तोड़ दिए थे , इसलिए अब उन्हें लकड़ी के कटोरे में खाना परोसा जाने लगा l कभी-कभी जब यह दम्पति बूढ़े की तरफ देखते तो उन्हें उनकी आँखों में आँसू दिखाई देते , लेकिन इस दम्पति के पास उन्हें धिक्कारने या चेतावनी देने के सिवाय अन्य कोई शब्द नहीं थे l चार साल का छोटा बच्चा सब कुछ चुपचाप देख रहा था l

एक शाम , डिनर से पहले दम्पति ने नोटिस किया कि उनका लड़का फर्श पर लकड़ी के कुछ टुकड़ों के साथ खेल रहा था l पिता ने मधुर स्वर में पूछा - "तुम क्या कर रहे हो , बेटा ? "

"मैं आपके और मम्मी के लिए लकड़ी का कटोरा बना रहा हूँ l जब मैं बड़ा हो जाऊंगा , आपको खाने के लिए दूंगा l " चार साल का बच्चा उतनी ही मधुरता से जवाब दिया और अपने काम में जुट गया l

ये शब्द माता-पिता को झकझोड़ कर रख दिए l वे अवाक रह गए l उनकी आँखों से आँसू टपकने लगे l उनके पास बोलने को शब्द नहीं थे लेकिन वे समझ चुके थे कि उन्हें क्या करना चाहिए l उसी शाम दम्पति ने बूढ़े पिता का हाथ थामा और भद्रतापूर्वक उन्हें अपने खाने की मेज तक लाया l

उस दिन के बाद से सभी ने मिलजुल कर खाना आरंभ किया l अब न तो पति ने न ही पत्नी ने किसी वजह से चिढना प्रारंभ किया चाहे बूढ़े बाप के द्वारा चम्मच का बिखेरना हो , दूध का गिराना या टेबल क्लॉथ का गन्दा करना l

Share This Article

Add Comments


EmoticonEmoticon